शेयर करें
Pic credit: Instagram
हर मां अपने बच्चों की देखभाल में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती हैं. एक मां जितना अपने बच्चों से प्यार करती है शायद ही कोई और करता होगा। एक मां के लिए सबसे कठिन वक्त वो होता है जब उसकी बच्चे 14 से 21 साल के होते हैं, क्योंकि ये वो वक्त होता है जब लड़कियां ना सिर्फ मानसिक बल्कि शारीरिक तौर पर डेवलप हो रही होती हैं। ऐसे वक्त में उनमें कई तरह के बदलाव आते हैं।
इस उम्र में अक्सर एक बेटी को मां से शिकायत रहती है कि उसके चेहरे पर पिंपल्स निकल रहे हैं। जिसके कारण उसकी सुंदरता खत्म हो रही है, अगर आपकी बेटी भी उम्र 14 से 21 साल के बीच है तो आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।
ऐसे करें बेटी की देखभाल
दोस्त बनिएः बेटी के इस उम्र के पड़ाव में उसकी मां ना बनकर दोस्त बनिए, पीरियड्य हो या फिर कोई भी हॉर्मोनल प्रॉब्लम उससे खुलकर बात करिए।
खाने पर दीजिए ध्यानः ये वो उम्र है जब एक लड़की को पहली बार पीरियड्स होते हैं, जिसके कारण उसका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। आपकी बेटी का स्वभाव उन दिनों में चिड़चिड़ा सा रहता है तो उसके खाने पीने पर ध्यान दीजिए। हरी-पत्तेदार सब्जियां और फल उसको जरूर खिलाइए।