पर्यटन के मानचित्र पर देश की अलग तस्वीर पेश करता राजस्थान का डूंगरपुर

शेयर करें

डुंगरपुर, राजस्थान के दक्षिणी भाग में बसा एक बहुत ही खूबसूरत शहर। जहाँ पिछले बीते तीन साल में गज़ब का विकास देखा गया है। राजस्थान घूमने की बात आते ही सबसे पहले हर किसी के ज़हन में रेत के टीले, ऊंट, गर्मी जैसी तस्वीरें आती हैं। लेकिन राजस्थान में रचा बसा डूंगरपुर पर्यटन के मानचित्र पर एक अलग ही तस्वीर पेश कर रहा है। बताया जाता है कि यहाँ के पहाड़ों से , नायाब हरे रंग का संगमरमर निकलता है, अरावली पहाड़ियों के बीच बसा यह शहर आज अपने स्वछता अभियान की वजह से न सिर्फ देश बल्कि विदेशों में भी चर्चा का विषय बना हुआ है। ’माही’ और ’सोम’ नदियाँ इस शहर की ख़ूबसूरती को चार नहीं बल्कि हज़ार चाँद लगा रही है।ऊँचे हरे – भरे पहाड़, साफ़ सुथरी सड़के, गैप सागर लेक में धीरे धीरे आगे बढ़ती कश्ती। उस कश्ती में शांत वातावरण का लुफ्त उठाते लोग। डुंगरपुर इस वक़्त राजस्थान का सबसे तेज़ विकासशील शहर है। डुंगरपुर राजस्थान में सबसे स्वच्छ और पहला ओडीएफ मुक्त शहर है।

अगर आप राजस्थान की विकाशील संस्कृति और विरासत को नए नज़रिये से देखना चाहते हैं तो डूंगरपुर आपको निराश नहीं करेगा।

राज्य की राजधानी डुंगरपुर शहर की स्थापना 14 वीं शताब्दी के अंत में मेवाड़ के सावंत सिंह के छठे वंशज रावल बीर सिंह ने की थी, जिसने इसे एक स्वतंत्र भील सरदार के डुंगरिया के नाम पर रखा था, 1527 में खानवा की लड़ाई में बागर के रावल उदय सिंह की मौत के बाद, जहां उन्होंने बाबर के खिलाफ राणा संगा के साथ लड़ाई की , उनके क्षेत्र डुंगरपुर और बंसवाड़ा राज्यों में विभाजित हुए।1818 में संधि द्वारा मुगल, मराठा और ब्रिटिश राज नियंत्रण के तहत लगातार, यह 15 बंदूक सलाम राज्य बना रहा। आज डूंगरपुर शहर में लगभग पचास हज़ार से ज़्यादा लोग रह रहे हैं।

डुंगरपुर का वातावरण काफी शुष्क है। गर्मी के मौसम में भी यहाँ राजस्थान के अन्य शहरों के मुकाबले कम गर्मी पड़ती है।

डूंगरपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थान

उदय बिलास पैलेस
जूना महल
गैप सागर झील
बादल महल
बेणेश्वर मंदिर
भुवनेश्वर
सुरपुर मंदिर
नागफन जी
शाहिद स्मारक पार्क
नया महादेव मंदिर
फतेहगढ़ी
चिड़िया घर
सरकारी पुरातत्व संग्रहालय
जिला पुस्तकालय

यहाँ कैसे पहुंचें –

हवाई मार्ग – 120 किलोमीटर की दूरी पर, उदयपुर निकटतम हवाई अड्डा है और अहमदाबाद 175 किलोमीटर दूर है।

सड़क मार्ग – राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8, जो दिल्ली, मुम्बई के बीच से गुज़रता है और राज्य का राजमार्ग (सिरोही, रतलाम राजमार्ग) ज़िले से गुज़रता है।

रेल मार्ग – रेलवे स्टेशन शहर से 3 किलोमीटर दूर है। महत्वपूर्ण रेल संपर्क मार्ग हिम्मतनगर डूंगरपुर, उदयपुर हैं।