मेघालय – हरे-भरे वनों, झीलों और रहस्यमयी गुफाओं से सजा शहर

शेयर करें
मेघालय उत्तर-पूर्वी भारत का ऐसा राज्य है जो अपने आंचल में प्रकृति की बहुमूल्य सुंदरता को छिपाए है। उपजाऊ घाटियां, बड़ी-बड़ी पहाड़ियां, कल-कल करती नदियां और झरने।

मेघालय का एक तिहाई हिस्सा वनों से ढ़का है। मेघालय भारत के उत्तर-पूर्व का बहुत ही खूबसूरत राज्य है। जिसकी राजधानी है शिलौंग। मेघालय का क्षेत्रफल लगभग 22,429 वर्ग किलोमीटर है। हरे-भरे वनों, झीलों और रहस्यमयी गुफाओं से सजे इस शहर के उत्तर में असम राज्य है, जिसे ब्रह्मपुत्र नदी इससे अलग करती है। मेघालय पहले असम का ही हिस्सा था, जिसे 1972 में असम से अलग करके एक अलग प्रान्त बना दिया गया। मेघालय के उत्तर में असम है तो दक्षिण में बांग्लादेश बसा है। मेघालय में इस वक्त सात जिले है और ये हर जिला अपनी एक अलग पहचान लिए है।

मेघालय का ईस्ट गारो हिल जिले का हैडक्वार्टर विलियम नगर में स्थित है जो पहले सिमसंगरी के नाम से जाना जाता था।

वहीं ईस्ट खासी हिल्स जिले का हैडक्वार्टर यहां की राजधानी शिलौंग में स्थित है।

मेघालय का जयंतिया हिल्स जिला यहां का सबसे बड़ा कोयला उत्पादन केंद्र है।

#Rathole Coal Mining in #Meghalaya: From the @indianexpress Archives. Photographs by Tashi Tobgyal #tasitokpay Deep under the ground, sometimes hundreds of feet below, in the most dangerous and inhuman conditions, thousands of laborers slog through burrows digging, blasting, axing coal. Far away in the #JaintiaHills of #Meghalaya in #India, with no mining regulations, the notorious #Rathole Mines is probably among the most ruthless and unorganized mining areas, where laborers from #Bangladesh, #Nepal and all over #India face death each day. #everydayeverywhere #coal #indianstories #photostories #Indianintelligent #incredibleindia #photojournalism #labour #environment #photostories Express Photographs by Tashi Tobgyal #tasitokpay For Further reading Visit http://archive.indianexpress.com/news/inside-meghalaya-s-black-hole/1026381/

A post shared by The Indian Express (@indianexpress) on


रीभोई जिला का ज्यादातर भाग जंगलों से ढ़का है। रीभोई जिला सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है अनानास के उत्पादन के लिए।

On top of MountFort #baridua #ribhoi #meghalayaunexplored

A post shared by wanshembha roywan (@wanshem) on

वहीं मेघालय के बाकी तीन जिले यानी साउथ गारो जिला, वेस्ट गारो जिला और वेस्ट खासी हिल्स जिला अपनी संस्कृती और मेहमरन नवाज़ी के लिए मशहूर है।

Happy 106th Shad Suk Mynsiem! Ka Shad Suk Mynsiem Festival is also known as ‘Dance of the Contented Heart’ or Shad Weiking. It is organised by the Seng Khasi Seng Kmie at Weiking Ground in Jaiaw, Shillong. The three-day festival comprises of the traditional dance of the Khasi tribe in which unmarried maidens and men dance and give thanks to the Almighty and also pay homage to the ancestors while proclaiming unity of the Khasis. It is usually celebrated after the harvest and before the sowing season. This year it will be celebrated from the 8th-10th of April. The festival is also celebrated all over the Khasi Hills. #mesmerising #meghalaya #mesmerisingmeghalaya #festival #dance #incredibleindia #shadsukmynsiem

A post shared by Meghalaya Tourism | Official (@meghalayatourism) on

ऊंची-ऊंची पहाडियों के इस शहर का मौसम हमेशा सुहावना रहता है। यहां न तो ज्यादा गर्मी और न ही ज्यादा सर्दी पड़ती है। पूरे साल भर खूब वर्षा होने की वजह से यहां की जलवायु में हमेशा नमी रहती है। जिसकी वजह से इसे देश का ‘‘गीला’’ राज्य भी कहा जाता है।