शेयर करें
NGO 'I Care for Tomorrow' completed 1st Mission Zero garbage project in Goregaon, Mumbai
NGO 'I Care for Tomorrow' completed 1st Mission Zero garbage project in Goregaon, Mumbai / Photo Courtesy : Azhar Khan
Ashu Das
स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत की तर्ज पर देश में कई जगहों पर सफाई अभियान चलाया जा रहा है। मुंबई में कई जगहों को कचरा मुक्त कराने और लोगों को साफ सफाई के प्रति जागरूक करने के लिए काम कर रहे एनजीओ ‘आई केयर फॉर टुमॉरो’ (आईसीटीएस) ने विद्या संकल्प और विनय संकल्प समाज से भारी प्रतिक्रिया के साथ सफलता की सीढ़ियां चढ़ रहा है। मुंबई के गोरेगांव स्थित विद्या संकल्प और विनय संकल्प सोसायटी द्वारा संचलित इस एनजीओ का लक्ष्य मिशन जीरो गारबेज ऑफ एनजीओ ‘आई केयर फॉर टुमॉरो द्वारा महज 4 दिनों में वो लक्ष्य हासिल कर लिया गया है जिसकी कल्पना भी कर पाना मुश्किल है।
महज 4 दिनों मे सोसायटी के 192 परिवारों के साथ समाज ने लगभग 90% कचरे का सही इस्तेमाल करके दिखाया है, ताकि समाज को प्रेरणा मिल सके। एनजीओ के कामों को कई संस्थानों द्वारा सराहा जा चुका है। इन दिनों एनजीओ के कामों के लिए उसे (आईसीटीएस) प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया है।
सुहास वाडकर ने सम्मान समारोह के बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, “स्वच्छ भारत बीएमसी के स्वच्छ मुंबई परियोजना के मिशन के तहत लोगों में जागरूकता फैलाई जा रही है लेकिन यह जागरूकता सभी के घर तक पहुंचने की है। उन्होंने कहा, मैं कल की परवाह करने वाला शख्स हूं, जिसे सिर्फ कल की ही परवाह करनी है। इसलिए कचरे के प्रति लोगों में जागरूकता फैलना मेरा पहला काम है। आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि हर नागरिक में स्वच्छ, प्रदूषण मुक्त समाज के बीज बोने के लिए तीव्र दृष्टि से आईसीटीएस का गठन किया गया है और हमारी भावी पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ समाज को पुन: संपन्न करने के लिए बड़े पैमाने पर काम किया जा रहा है।
बीएमसी पी नॉर्थ कचरा प्रबंधन अधिकारी दया प्रसाद ने कहा, “बीएमसी के शून्य कचरा मिशन में हमने गोरेगाँव के संकल्प समाज में पायलट शून्य कूड़ा शुरू किया था।   उन्होंने कहा कि हम अलगाव पर समाज में जागरूकता कार्यक्रमों की शुरुआत की थी।  अगले तीन दिनों  एनजीओ द्वारा  1 9 2 परिवारों को मैप किया है कि वे इसे कैसे आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा हम दिन में एक बड़े दर्शक को लक्षित करते हैं और मुझे 1000 परिवारों के साथ संगति करने की आशा है, प्रति सप्ताह शून्य कूड़ा।