बुलंदियों को छूकर देश की रक्षा कर रही हैं नौसेना महिला पायलट

शेयर करें
Ashu Das
भारत की बेटियां किसी से कम नहीं है। मॉडलिंग, एक्टिंग, सिंगिंग, होम डेकोर हर काम में वुमन परफेक्ट हैं। वुमन की रक्षा की दीवार तो है ही पर अब आसमान की बुलंदियों को छूकर देश की रक्षा कर रही हैं। भारतीय नौसेना ने शुभांगी स्वरूप को पहली महिला पायलट के तौर पर कमीशन किया है। शुभांगी को नौसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव प्राप्त हुआ है। शुभांगी के अलावा नई दिल्ली की आस्था सेगल, पुडुचेरी की रूपा ए और केरल की शक्तिमाया एस को नौसेना की नेवल आर्मामेंट इंस्पेक्टोरेट (एनएआई) शाखा में भारत की महिला अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया। महिलाओं के आसमान छूती कहानियों को सिटी वुमन सलाम करता है। क्योंकि जिन महिलाओं के कंधे पर घर परिवार की जिम्मेदारियों होती है आज वो आसमान छू रही हैं।
कहते हैं एक सपने की बुनाई की शुरुआत बचपन से ही होती है और उसमें माता-पिता का अहम योगदान होता है। शुभांगी  ने भी समुद्री गश्ती के साथ काम करने की इच्छा संजोई थी।  बचपन में जब शुभांगी ख्याब बुन रही थी तब उन्हें क्या पता था कि वो एक दिन भारतीय नौसेना में महिलाओं को वो रोल मॉडल बनेंगी जिसे हर शख्स याद रखना चाहेगा। शुभांगी के सपनों में रंग भरने का काम किया उनके पापा ने। शुभांगी के पिता भी इंडियन नेवी में कमांडर हैं। शुभांगी आज हर लड़की का रोल मॉडल हैं जो खुद कुछ नया करना चाहती हैं।